मेरे राजदार समर्थक मित्र बनने का शुक्रिया

मेरी रचनाएं

मंगलवार, 22 मई 2012

नन्हे हाथों और तिक्ष्ण दिमाग का कमाल...


अब चोरी करने से पहले ही पकड़े जाएंगे चोर, 
बज उठेगी मोबाइल घंटी...
========================================
नगर में रहने वाले आठवीं के छात्र सूरज ने ऐसा अविष्कार किया है जो चोरों के लिए काल की घंटी बनकर उनके मंसूबे पर पानी फेर देगा। उसने ऐसा यंत्र बनाया है जो घर में चोर के घुसते ही मालिक को फोन कर एलर्ट कर देगा। इस यंत्र का नाम उसने ‘थीफ बेल’ रखा है। 


दरवाजे के कुंदे पर ऐसा सिस्टम लगा होगा जो दरवाजे से छेड़खानी करते ही काम करना शुरू कर देगा। घर का दरवाजा खोलकर चोर के अंदर घुसते ही घर मालिक के मोबाइल फोन पर घंटी बज जाएगी। कॉल आने पर मकान का मालिक सतर्क हो जाएगा और चोरों को सीखचों के पीछे पहुंचाने समय पर पुलिस की मदद ले सकेगा। 
चांपा रोड जांजगीर में रहने वाले शिक्षक आरएन राठौर का इकलौता पुत्र सूरजभान सिंह राठौर हसदेव पब्लिक स्कूल में आठवीं का छात्र है। उसे क्लास टीचर एकता देवांगन से विज्ञान के मॉडल बनाने की प्रेरणा मिली। सूरज ने बताया कि मैडम ने उसे कॉल बेल के सिद्धांत के बारे में सिखाया था। 
यह सिद्धांत उसके मन में घर कर गया और वह कॉल बेल का मॉडल बनाने लगा। बाद में उसने घर पर इस सिद्धांत को चेंज कर ‘थीफ बेल’ के रूप में परिणित किया। सूरज के वैज्ञानिक दृष्टिकोण के कारण ही उसने कच्ची उम्र में यह अविष्कार कर दिखाया है। 


उसने पहले भी वाटर टैंक ओवरफ्लो सिस्टम सहित कुछ छोटे-बड़े मॉडल बनाए हैं, पर ‘थीफ बेल’ 
उसका खास अविष्कार है। इसकी खासियत के कारण ही पिछले माह डाइट में हुए राज्य स्तरीय विज्ञान सेमिनार में उसे प्रदर्शन करने का मौका मिला। 


सूरज ऐसा अकेला छात्र था जिसका मॉडल इस प्रदर्शनी में दिखाया गया। सूरज ने बताया दरवाजे की सिटकनी के भीतरी भाग में एक लॉक बटन लगा है। इसका कांटेक्ट इलेक्ट्रिक वायर के माध्यम से एक मोटर में है। मोटर के एक्सल में स्क्रू के माध्यम से लोहे का पतला रॉड लगा है। इसका कांटेक्ट मोबाइल के काल स्विच से होगा। चोर जैसे ही सिटकनी खोलेगा वह पीछे लगे लॉक बटन को टच करेगी। 
बटन टच होते ही कमरे में लगी मोटर शुरू हो जाएगी। मोटर के साथ एक्सल रॉड भी घूमेगा। रॉड का कांटेक्ट मोबाइल के काल स्विच को प्रेशर से दबाते हुए आन कर देगा। मकान मालिक के जिस नंबर को मोबाइल पर आखिरी बार डायल कर सेट किया गया होगा उस पर सीधे कॉल जाने लगेगी। 
इससे मकान मालिक कहीं भी हो, वह चौकन्ना हो जाएगा। उसे पता चल जाएगा कि उसके घर में कुछ गड़बड़ी है। वह समय पर अपने पड़ोसी, रिश्तेदार या पुलिस से संपर्क कर चोरों को पकड़वा सकता है। सूने मकानों में लगातार हो रही चोरी की वारदात को देखते हुए सूरज का यह अविष्कार लोगों के लिए फायदेमंद हो सकता है।
सौजन्य:- भास्कर & गूगल वेब 

1 टिप्पणियाँ:

एक टिप्पणी भेजें

आप अपने बहुमूल्य शब्दों से इसको और सुसज्जित करें
धन्यवाद