मेरे राजदार समर्थक मित्र बनने का शुक्रिया

मेरी रचनाएं

शुक्रवार, 9 सितंबर 2011

ऐसा देश है मेरा.....

पढ़ा लिखा है यहाँ संतरी 
अशिक्षित है शिक्षामंत्री 
सुन लो ओ जग वालों 
कहता हूँ मैं खरी-खरी 
ऐसा देश है मेरा ऐसा देश है मेरा 
जिसको घर का काज न आवे 
वो प्रदेश का राज चलावे 
जहाँ का लीडर अपनी सोचे 
और समाज का बैंड बजावे 
ऐसा देश है मेरा ऐसा देश है मेरा
भाई भतीजा वाद बहुत है 
भ्रष्टाचार आबाद बहुत है 
मानवता ईमान नहीं कुछ 
धर्म के नाम पे फसाद बहुत है 
ऐसा देश है मेरा ऐसा देश है मेरा
पत्थर पे लाखों का हार सजाते 
पर गरीब को मार भगाते 
अंधविश्वास का हाल ये देखो 
बच्चों का भी शीश चढाते 
ऐसा देश है मेरा ऐसा देश है मेरा
हम दो हमारे सौ का नारा है 
आबादी बढ़ाना ही काम प्यारा है 
लड़की उनको भी कुंवारी चाहिए 
जो खुद सौ-सौ मुंह मारा है 
ऐसा देश है मेरा ऐसा देश है मेरा
लोग चवन्नी बस यहाँ कमाते 
शाम हुई खूब पी के आते 
ज्ञान के नाम पर शून्य हैं फिर भी 
बातें बड़ी-बड़ी कर जाते 
ऐसा देश है मेरा ऐसा देश है मेरा
'हीरो' की तुम देखो बातें 
फुटपाथ पर गाडी चलते 
लोग फिर भी है उनके 'फैन'
जो लोगों को नींद में उड़ाते 
ऐसा देश है मेरा ऐसा देश है मेरा
विश्व सुंदरी भी क्या कमाल करें 
परोपकार समाज सेवा की बात करे 
पहनते ही ताज मगर वो भी 
'बॉलीवुड' की ही राह धरे 
ऐसा देश है मेरा ऐसा देश है मेरा
कहीं-कहीं हैं रातें उजली 
कहीं-कहीं हैं दिन में भी अँधेरा 
चंद लोग तो महलों में सोते 
बाकी का है फुटपाथ बसेरा 
ऐसा देश है मेरा ऐसा देश है मेरा

15 टिप्पणियाँ:

Dr.Sushila Gupta ने कहा…

कहीं-कहीं हैं दिन में भी अँधेरा
चंद लोग तो महलों में सोते
बाकी का है फुटपाथ बसेरा
ऐसा देश है मेरा ऐसा देश है मेरा

bhavnatmak prastuti ke lie aapko badhaee.

beena ने कहा…

bahut achcha likhte ho bhai

मेरा साहित्य ने कहा…

SUNDER BHAV SE SAJI KAVITA
RACHANA

रजनी मल्होत्रा नैय्यर ने कहा…

sahi halat likha hai aapne .....

Roshi ने कहा…

sunder bhav ki rachna..............

Dr (Miss) Sharad Singh ने कहा…

संवेदनशील रचना ...

shama ने कहा…

Desh to waqayee aisa hai!
Hindi diwas kee aapko bhee anek shubhkamnayen!

S.N SHUKLA ने कहा…

सुन्दर रचना , सुन्दर भावाभिव्यक्ति , बधाई



कृपया मेरे ब्लॉग पर भी पधारने का कष्ट करें .

रविकर ने कहा…

सुन्दर रचना पाठ से, धन्य हुआ आभार |
सदा बधाई आपको, बढे पोस्ट भण्डार ||

vidhya ने कहा…

BAHUT SUNDAR LIKHE HAI AAP

veerubhai ने कहा…

अच्छी पोस्ट भाई साहब यथार्थ का लेखा परोसती . http://kabirakhadabazarmein.blogspot.com/2011/09/blog-post_13.html
अफवाह फैलाना नहीं है वकील का काम .

Suman ने कहा…

yahi hai yethrth bahut badhiya ....
aabhar...

Geeta ने कहा…

bohot sunder or ak dam sach likha hai aapne,

wakai aisa hi desh hai mera

अरुण कुमार निगम (mitanigoth2.blogspot.com) ने कहा…

सम्वेदनाओं को शब्दों में ढालना आसान नहीं होता.आपने सरलता से ढाल दिया.अतिसुंदर.

JHAROKHA ने कहा…

neei kamal ji
xhma kijiyega ,apke blog tak pahunchne me deri ho gai.
waqai aapki rachna ki ek -ek pankti sachai ko bayan kar rahi hai.
bahut hi behtreen.
aakhiri panktiyon ne jyaada hi prabhavit kiya hai.
aapkao bahut bahut dhanyvaad
poonam

एक टिप्पणी भेजें

आप अपने बहुमूल्य शब्दों से इसको और सुसज्जित करें
धन्यवाद